Advertisements

जिंदगी कभी उम्मीद नहीं खोती

सपने भी तो
टूटने और मिटने के बाद भी
बसते हैं मन के
सूने अंधेरे कोनों में
उम्मीद के अंसख्य बीज लिए
कि देंगे जन्म नए सपनों की
अनगिन फ़सलों को
और कि
उन सपनों की रोशनी में
कुछ पल और जी लेंगे
क्योंकि सपने कभी मरते नहीं
नए रंगो से लिखी
नई इबारतें लिए
प्रवेश करते हैं
हमारी दुनियाओं में
और रच बस जाते हैं
श्वास और धड़कन में
नई सुमधुर संगीत लहरियां बनकर
उम्मीद की रोशनी को
बुझने से बचाने के लिए
हम भले हो चुके हों नाउम्मीद
पर जिंदगी कभी उम्मीद नहीं खोती
उम्मीद के हर कतरे में
बसती है जिंदगी
और जिंदगी के हर कतरे में
बसते है सपने
और हर सपने में
छुपे रहते है
उम्मीद के बीज
जिनसे
फ़िर से
जन्मती और पनपती हैं
जिंदगी उम्मीद और सपने

Taken from : , , , ,

Advertisements

Leave a Reply

%d bloggers like this: