Category: I love my India

ये वीडियो देखने के बाद भगवान शिव के अस्तित्व पर सवाल नहीं करोगे। Historical Proof Of Lord Shiva।

भगवान भोलेनाथ कैलाश पर्वत पर रहते हैं। हर साल भक्त भगवान शिव के दर्शन के लिए कैलाश मानसरोवर की यात्रा करते हैं। इस दौरान कई भक्तों ने कैलाश पर्वत पर भगवान भोलेनाथ की अनुभूति का एहसास किया है। आज हम आपको वाकई में भगवान शिव के दर्शन कराएंगे। कैलाश पर्वत पर ली गई ऐसी तस्वीरें,…

Read more ये वीडियो देखने के बाद भगवान शिव के अस्तित्व पर सवाल नहीं करोगे। Historical Proof Of Lord Shiva।

कबीरा खड़ा बाज़ार में – Kabira Khada Bazaar Mein (Hindi) – A documentary film by Shabnam Virmani on the poet-saint as part of her Kabir Project

An insightful film that introduces us to the various cults that have grown around Kabir, the mystic weaver and saint. It explores the nuances of India’s argumentative tradition as exemplified by Kabir’s dohas and traces the eventful journey of one man caught in an Orwellian dilemma as he is elevated to the status of a…

Read more कबीरा खड़ा बाज़ार में – Kabira Khada Bazaar Mein (Hindi) – A documentary film by Shabnam Virmani on the poet-saint as part of her Kabir Project

Tribute To Kader Khan – who has changed the way Hindi film dialogue was written

Kadar Khan was born in Kabul, Afghanistan in 1937.His father was Abdul Rahman Khan from Kandahar while his mother was Iqbal Begum from Pishin, British India (now in Balochistan, Pakistan). Khan had three brothers Shams ur Rehman, Fazal Rehman and Habib ur Rehman. He is an ethnic Pashtun of the Kakar tribe.Khan was raised in…

Read more Tribute To Kader Khan – who has changed the way Hindi film dialogue was written

ऑपरेशन कैक्टस – 1988 – मालदीव में भारतीय सेना ने दिखाई थी अपनी ताकत

कैसे भारतीय सैनिक मालदीव पहुंचे और रोक दिया तख्ता पलट पीपल्स लिबरेशन ऑर्गेनाइजेशन ऑफ तमिल ईलम के करीब 200 श्रीलंकाई आतंकवादियों ने 1988 में मालदीव पर हमला कर दिया था जिसके बाद मालदीव की तरफ से आए इमरजेंसी मैसेज के 9 घंटे बाद ही भारतीय सेना के कमांडो मालदीव गए थे और कुछ ही घंटों…

Read more ऑपरेशन कैक्टस – 1988 – मालदीव में भारतीय सेना ने दिखाई थी अपनी ताकत

तात्या टोपे :न पकड़े गये न फाँसी लगी

1857 की क्रांति के इस महानायक का जन्म 1814 में हुआ था। बचपन से ही ये अत्यंत सुंदर थे। तांत्या टोपे ने देश की आजादी के लिये हंसते-हंसते प्राणो का त्याग कर दिया। इनका जन्म स्थल नासीक था। इनके बचपन का नाम रघुनाथ पंत था। ये जन्म से ही बुद्धिमान थे। इनके पिता का नाम…

Read more तात्या टोपे :न पकड़े गये न फाँसी लगी